ताजा खबर

ताजमहल का इतिहास और रोचक तथ्य

प्यार की मिसाल माना जाने वाला दुनिया का यह अजूबा, भारत का गर्व है। इस अद्भुत स्मारक को सफ़ेद संगमरमर से शाहजहाँ द्वारा उसकी बेगम मुमताज़ की याद में बनवाया गया था। दुनिया का हर एक इंसान आज ताजमहल देखने की चाह रखता है क्योकि इसे मोहब्बत का मंदिर कहा जाता है। यमुना नदी के किनारे पर स्थित यह ईमारत एकविस्मरणीय स्थल है।
 
1631 में, शाहजहाँ के साम्राज्य ने हर जगह अपना जीत का परचम लहराया था। उस समय शाहजहां  की सभी बेगम में उनकी सबसे प्रिय बेगम मुमताज़ महल थी। पर पर्शियन बेगम मुमताज़ महल की मृत्यु अपने चौदहवे बच्चे को जन्म देते समय हो गयी, उनके चौदहवे बच्चे का नाम गौहर बेगम था। ताज महल का निर्माण मुग़ल सम्राट शाहजहाँ (शासनकाल 1628 से 1658) ने अपनी पत्नी मुमताज़ महल की याद में करवाया था,
 
 
 
ताजमहल की कुछ रोचक बाते।
1. इस मनमोहक ईमारत को 25000 से भी ज्यादा लोगो ने मिलकर बनाया था जिनमे मजदूर, पेंटर, आर्टिस्ट और बहुत से कलाकार भी शामिल थे।
 
2. ताजमहल बनाते समय लगने वाले सामान को स्थानांतरित करने के लिये लगभग 1500 हाथियों का उपयोग किया गया था।
 
3. इतिहासकारों के अनुसार शाहजहाँ ने नदी के दूसरे किनारे पर काले पत्थरो से एक और ताजमहल बनाने की योजना बनायी थी अपने बेटे औरंगज़ेब से ही युद्ध होने के कारण उनकी यह योजना पूरी नही हो पायी थी ।
 
4. ताजमहल को शाहजहाँ की तीसरी और सबसे प्रिय पत्नी मुमताज़ महल की याद में बनाया गया था और उसे बनाने में लगभग 18 साल लगे थे।
 
5. कहा जाता है कि मुमताज़ की मृत्यु का शाहजहाँ पर काफी असर हुआ था उनकी मृत्यु के बाद से ही शाहजहाँ की हालत भी बहुत ख़राब हो गयी थी। कहा जाता है कि  शाहजहाँ मरते दम तक मुमताज़ को भूल नही पाए थे।
 
6. ताजमहल के चारो तरफ की मीनारों की छाया एक अलग ही आईने जैसा प्रतिबिम्ब निर्मित करती है। इसे भी लोग एक चमत्कार ही मानते है बल्कि कोई भी आर्किटेक्चर इस पहेली को सुलझा नही पाए है।
 
7. ताजमहल महमोहन गार्डन और इतिहासिक इमारतो से घिरा हुआ है जिसमे मस्जिद और गेस्ट हाउस शामिल है, लगभग  17 हेक्टर्स जमीन पर ताजमहल का परीसर फैला हुआ है।
 
8. ताजमहल की कुल ऊंचाई लगभग 73 m है।
 
9. ताजमहल दिन में अलग-अलग समय में अलग-अलग रंगों में दिखाई देता है, सुबह के समय वह हल्का सा गुलाबी और शाम में दुधेरी सफ़ेद जैसा और रात में हल्का सुनहरा दिखाई देता है। लोगो का रंगों के बदलने से तात्पर्य महिलाओ के स्वभाव के बदलने से है।
 
10. ताजमहल की दीवारों पर पहले काफी बहुमूल्य रत्न लगे हुए थे लेकिन 1857 की क्रांति में ब्रिटिशो ने उसे काफी हानि पहोचायी थी।


इस खबर पर अपनी राय दे

*

ताज़ा वीडियो


गंगा दशहरा और निर्जला एकादशी - आखिर क्या है इसका महत्व


टिम्बक टू में आयोजित इनर व्हील क्लब की मासिक सभा


गन्ना मंत्री के हाथों निर्धन कन्याओं को वितरित की साइकिल और व्हील चेयर


मेरठ के समाचार