ताजा खबर

वायु से उड़ सकते हैं मासून के बादल

भीषण गर्मी झेल रहे उत्तर भारत में मानसून के देरी से पहुंचने की भविष्यवाणी पहले ही की जा चुकी है. धीरे-धीरे कदमों से आगे बढ़ रहे मानसून से लग रहा था कि मैदानी इलाकों में कुछ दिनों बाद राहत मिलेगी. लेकिन चक्रवाती तूफान 'वायु' के चलते अब एक आशंका यह पैदा हो गई है कि कहीं यह मानसूनी बादल को ही न ले उड़े. अगर ऐसा हुआ तो उत्तर भारत में हाहाकार मच जाएगा. क्योंकि पूरे मैदानी इलाकों में किसान खेती-बाड़ी के लिए मानसून की बारिश पर ही निर्भर होते हैं.
वैसे तो मानसून पहले से ही देरी से चल रहा है, लेकिन अगर वो 80 से 90 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाले वायु चक्रवात की चपेट में आ गया तो किसानों को बहुत नुकसान उठाना पड़ेगा. अगर मानसूनी बादल नहीं ठहरे तो बादल भी नहीं बरसेंगे. बादल नहीं बरसे तो उत्तर भारत में सूखे की स्थिति पैदा हो जाएगी.


इस खबर पर अपनी राय दे

*

ताज़ा वीडियो


एंटी करप्शन की टीम ने यूनिवर्सिटी से रिश्वत लेते हुए किया एक बाबू को गिरफ्तार


दस दिवसीय संस्कृत कार्यशाला का समापन


Evening News 17 JUNE 2019


मेरठ के समाचार