ताजा खबर

चुनाव नतीजों से पहले रामवीर पर गिरी मायावती की गाज

लखनऊ। एग्जिट पोल आने के बाद चुनाव के वास्तविक नतीजे आने से पहले ही  बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती ने एक बड़ा एक्शन लिया है। पार्टी ने अपने पुराने सिपहसलार रहे रामवीर उपाध्याय को पार्टी के मुख्य सचेतक पद से हटाने के साथ ही पार्टी से निलम्बित कर दिया है। उपाध्याय  पर पार्टी विरोधी एक्टिविटीज में शामिल होने का आरोप है।

पार्टी के जनरल सेक्रेटरी मेवालाल गौतम ने कहा कि, ‘रामवीर उपाध्याय लोकसभा इलेक्शन्स के दौरान पार्टी विरोधी एक्टिविटीज गतिविधियों में शामिल थे। उन्हें चेतावनी दी गई थी, इसके बावजूद रामवीर ने आगरा, फतेहपुर सीकरी, अलीगढ़ समेत कई सीटों पर खड़े किए गए पार्टी कैण्डीडेट्स की खुलकर खिलाफत की और विरोधी पार्टी के कैण्डीडेट्स का सपोर्ट किया।

असेम्बली के मुख्य सचेतक पद से हटाया

मेवालाल गौतम ने कहा कि, ‘रामवीर उपाध्याय को तत्काल पार्टी से निलंबित कर दिया गया है और असेम्बली में बीएसपी के मुख्य सचेतक पद से भी हटा दिया गया है। साथ ही अब वह पार्टी की किसी भी मीटिंग में न शामिल होंगे और न ही बुलाए जाएंगे।’

 बीजेपी को रामवीर के विरोध से मिलेगा क्रेडिट

जिन सीटों पर एलायंस के कैण्डीडेट्स के विरोध का आरोप रामवीर उपाध्याय पर लगा है, उनमें से अधिकतर सीटें  एग्जिट पोल में बीजेपी के पास जाती दिख रही हैं। सर्वे में आगरा, फतेहपुर सीकरी, अलीगढ़ और हाथरस में बीजेपी सबसे ज्यादा पॉपुलर पार्टी नजर आ रही है।

बीजेपी में शामिल होने की थीं अटकलें

बीते कई दिनों से रामवीर उपाध्याय के बीजेपी में शामिल होने की अटकलें थीं, लेकिन वह खुद बीएसपी से नाता नहीं तोड़ना चाहते थे। यदि  रामवीर ऐसा करते तो उनकी विधायकी पर संकट उत्पन्न हो सकता था। अब कयास लगाया जा रहा है कि रामवीर उपाध्याय बीजेपी में शामिल हो सकते हैं।

पिछले साल भाई हुए थे बीजेपी में शामिल

रामवीर उपाध्याय के भाई मुकुल उपाध्याय बीते वर्ष बीएसपी छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए थे। इस दौरान उन्हें भाई रामवीर पर बीएसपी से निकलवाने का आरोप लगाया था। मुकुल ने कहा था कि, ‘अलीगढ़ से बीएसपी का टिकट देने के लिए मायावती ने उनसे पांच करोड़ रुपये मांगे थे।’

 
 


इस खबर पर अपनी राय दे

*

ताज़ा वीडियो


एंटी करप्शन की टीम ने यूनिवर्सिटी से रिश्वत लेते हुए किया एक बाबू को गिरफ्तार


दस दिवसीय संस्कृत कार्यशाला का समापन


Evening News 17 JUNE 2019


मेरठ के समाचार